Thursday, March 3, 2011

समय का पहिया

कहते हैं समय बीतने का पता नहीं चलता हैं । पुराना साल बीता । नहीं पता पता चला । इस साल के दो महीनें बीत गये । पता नहीं चला । लगता हैं कि कल की बात तो थी । जब हम नये साल का स्वागत कर रहे थे । पर क्या समय ना तो किसी के कहने से रूकता हैं । और नहीं किसी के कहने से चलता है । वहीं दूसरी ओर मौत और जिंदगी जब तलक रहनी होती हैं । तब तलक रहती है । इसलिए कहते है कि समय सबसे ज्यादा बलवान होता हैं ।